Poems

महक

जीवन एक ऐसी रचना है जो सदा महकती रहती है। जिस प्रकार जीवन प्रारंभ से लेकर अन्त तक कई आकार और रुप बदलता रहता है, उसी प्रकार उसकी महक का आभास और प्रभाव बदलता रहता है। सत्य के अतिरिक्त इस सृष्टि में कुछ भी स्थायी नहीं। सत्य का रुप और आकार कभी नहीं बदलते। सत्य …

महक Read More »

काव्य कलश

भक्त कलश में जल अथवा गंगाजल भर कर प्रभु की आराधना करने हेतु मंदिर में प्रवेश करता है. भक्त की भक्ति भावना से वो जल पावन हो जाता है. वो उस जल को अपने प्रभु की मूर्ति पर छिड़क कर, वंदना करके, प्रभु के नाम का उच्चारण करते हुए स्वयं पर भी छिड़क कर अपने …

काव्य कलश Read More »

सत्य की परछाईयां

सत्य की परछाईयां मेरे जीवन के कुछ प्रतिबिम्ब हैं. जैसे जैसे जीवन समय की लहरों पर आगे बढ़ता है, वैसे ही सत्य परछाई बनकर जीवन का अनुसरण करता रहता है. सत्य कभी नष्ट नहीं होता, सत्य की परछाई धुंधली पड़ सकती है. मानव की स्मरण शक्ति बीते हुए जीवन की कुछ घटनाओं को सदा संजोकर …

सत्य की परछाईयां Read More »

घटाएं

रुबाईयों का यह संग्रह पेश करते हुए मैं न तो शायर और न ही कोई कवि होने का दावा कर सकता हूं. हां एक इंसान बनने की कोशिश में कुछ खून की बूंदें गम और तड़प की गर्मी से तप कर दिल के वीरान आसमां में घटाएं बनकर बिखर गईं. अश्कों की नमी से तर …

घटाएं Read More »